MACD इंडिकेटर क्या है? इसका इस्तेमाल करके ट्रेड कैसे करे?

आज के इस पोस्ट के माध्यम से हमलोग जानेंगे कि MACD इंडिकेटर क्या है? (MACD Indicator in Hindi) और कैसे टेक्निकल चार्ट में MACD का इस्तेमाल करके ट्रेड करके पैसा कमा सकते है|

दोस्तों, अगर आप शेयर मार्किट में ट्रेड या इन्वेस्ट करते है तो आप MACD के बारे में जरुर सुने होंगे, क्योंकि MACD टेक्निकल एनालिसिस करने वाली एक इंडिकेटर है जिसका इस्तेमाल लगभग सभी इंट्राडे ट्रेडर करते है| अगर आप भी इस इंडिकेटर के बारे में विस्तार से जानना चाहते है तो इस पोस्ट को पूरा अवश्य पढ़े, क्योंकि इस पोस्ट में हम आपके साथ MACD इंडिकेटर का इस्तेमाल सही से कैसे करे, इसके बारे में भी बिलकुल सरल भाषा में विस्तार से बताएँगे|

MACD इंडिकेटर क्या है?

MACD जिसका विस्तृत नाम Moving Average Convergence Divergence है, जिसे हिंदी भाषा में “चालित औसत संमिलन-विचलन” के नाम से भी जाना जाता है| यह एक प्रकार का टेक्निकल इंडिकेटर का जिसका इस्तेमाल हम किसी भी शेयर के चार्ट में कर सकते है|

यह भिन्न-भिन्न समय अवधि के दो घातिय Moving Average (चालित औसत) के मध्य से उत्पन्न होती है| इस इंडिकेटर का उपयोग प्राय यह जानने के लिए किया जाता है कि हमे कब शेयर खरीदना चाहिए और कब बेचना चाहिए|

Read Also:  Moving Average इंडिकेटर क्या है? इसका इस्तेमाल करके ट्रेड कैसे करे?

MACD को Lagging इंडिकेटर के नाम से भी जाना जाता है| यह इंडिकेटर किसी भी चार्ट के ऐतिहासिक डाटा यानि पिछले मूवमेंट पर आधारित होती है|

इस इंडिकेटर का निर्माण “जेराल्ड एपेल” नाम के एक व्यक्ति ने सत्तर के दशक में किया था| शेयर मार्किट में कारोबार करने वाले कारोबारी MACD इंडिकेटर पर भरोसा दिखाते है, क्योंकि वह इसे सबसे पुराना और महत्वपूर्ण इंडिकेटर के रूप में देखते है|

MACD Indicator in Hindi

अब तक आप यह समझ ही गए होंगे की MACD क्या है? आइये जानते है MACD कैसे कार्य करती है? दरअसल MACD का गणना 12 दिन EMA और 26 दिन EMA के Closing Price की मदद से किया जाता है| MACD इंडिकेटर किसी भी स्टॉक के चार्ट के नेगेटिव मूवमेंट और पॉजिटिव मूवमेंट को बताता है, जिससे ट्रेडर को ट्रेड करने में आसानी होती है|

इस इंडिकेटर का इस्तेमाल अधिकतर इंट्राडे ट्रेड करने के लिए किया जाता है, लेकिन आप इस इंडिकेटर का इस्तेमाल शोर्ट टर्म ट्रेडिंग के लिए भी कर सकते है, क्योंकि बड़े टाइम फ्रेम में भी इस टेक्निकल इंडिकेटर का गणना अच्छा ही होता है|

आप इन इंडिकेटर का इस्तेमाल किसी भी ब्रोकर के चार्ट में अथवा Tradingview.com में आसानी से और बिलकुल निशुल्क कर सकते है|

Read Also:  Bollinger bands इंडिकेटर का इस्तेमाल कैसे करे? Bollinger Bands Indicator in Hindi

MACD इंडिकेटर का इस्तेमाल करके ट्रेड कैसे करे?

इसे समझने के लिए आइये सबसे पहले इस फोटो पर नज़र डालिए

MACD Indicator in Hindi

आपको आसान भाषा में समझाने के लिए हमने इस MACD इंडिकेटर को HDFCLIFE के स्टॉक में लगाया है| यहाँ आपको इसके चार्ट के निचे MACD का इंडिकेटर देखने को मिल जाता है| अब हमलोग समझते है कि हमने इस शेयर को कब खरीदना चाहिए और कब बेचना चाहिए|

यहाँ MACD इंडिकेटर में आपको 2 लाइन दिख रहा होगा, एक लाल और दूसरा नीला| हम MACD के मदद से किसी भी शेयर को तब खरीदेंगे जब नीला रेखा, लाल रेखा को क्रॉस करके उसके ऊपर जाये, और बेचेंगे तब जब लाल रेखा, नीला रेखा को क्रॉस करते हुए उसके ऊपर जाये, और हमे आने का सिगनल दे|

कभी-कभी MACD का सिगनल बहुत ही complicated रहता है, ऐसे में हम यह अच्छे से समझ नहीं पाते है कि मार्किट का मूवमेंट आगे कैसा होगा| ऐसी स्थिति में हमे ट्रेड नहीं करना चाहिए|

कोई भी इंडिकेटर कभी भी 100 प्रतिशत सही रिजल्ट नहीं देता है, इसीलिए बिना Stoploss के साथ कभी भी ट्रेड न करे और न ही ज्यादा मात्रा में ट्रेड करे|

Read Also:  Bullish Harami पैटर्न क्या है? Bullish Harami Pattern in Hindi

अगर आप पहली बार MACD इंडिकेटर की सहायता ट्रेड कर रहे है तो बहुत ही कम Quantity में ही ट्रेड करे, जब आपको इसके बारे में अच्छे से समझ आ जाये तब आप quantity को बढ़ा सकते है|

इसे भी पढ़े- High Returns Stocks: 2021 में इन 5 कंपनी के shares ने दिया बम्पर रिटर्न्स, जाने कौन से है वो stocks

अंतिम शब्द

आज के इस पोस्ट के माध्यम से हमने जाना कि MACD इंडिकेटर क्या है? ( MACD Indicator in Hindi) और MACD इंडिकेटर का इस्तेमाल करके ट्रेड कैसे करे? उम्मीद है कि इस पोस्ट में शेयर किया गया जानकारी आपको अवश्य पसंद आया होगा| अपना बहुमूल्य फीडबैक कमेंट के माध्यम से जरुर साझा करे| अगर पोस्ट पसंद आया तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे|

अन्य महत्वपूर्ण पोस्ट-