प्रदोष व्रत कथा PDF | Pradosh Vrat Katha in Hindi PDF

आज के इस पोस्ट के माध्यम से हम आपके साथ प्रदोष व्रत कथा PDF शेयर करेंगे, जिसे आप इसी पोस्ट में नीचे दिए गए डायरेक्ट download लिंक की सहायता से निशुल्क डाउनलोड कर सकते है|

प्रदोष व्रत शिवजी को प्रश्न करने के लिए किया जाता है| यह व्रत प्रत्येक माह की दोनों पक्षों की त्रयोदशी के दिन शाम यानि संध्याकाल में किया जाता है| इस व्रत में शिव जी के साथ-साथ माता पारवती की भी पूजा की जाती है| अगर आप प्रदोष व्रत के सम्पूर्ण कथा को पढना चाहते है तो आप इस पोस्ट में शेयर किये गए पीडीऍफ़ को निशुल्क डाउनलोड करके पढ़ सकते है|

प्रदोष व्रत कथा PDF

प्रदोष व्रत का विवरण हमे स्कन्द पुराण से प्राप्त होता है| इस व्रत को प्राय महिलाये और पुरुष दोनों रखते है| दरसल स्कन्द पुराज के अनुसार की सभी महीने के दोनों पक्ष के त्रियोदशी के संध्याकाल को की “प्रदोष” कहा जाता है| इसीलिए यह व्रत इसी समय रखा जाता है|

मान्यताओं के अनुसार प्रदोष व्रत को सबसे पहले चंद्रदेव ने किया था| जब चन्द्र देव श्राप के कारण क्षय रोग का शिकार हो गए थे तो चन्द्र देव ने प्रदोष व्रत को करके शिवजी को प्रसन्न किया था और इस श्राप से मुक्ति पायी थी|

अगर आप भी प्रदोष व्रत के सम्पूर्ण कथा को हिंदी भाषा में पढना चाहते है तो इस पोस्ट में शेयर किये गए पीडीऍफ़ को निशुल्क डाउनलोड करके अवश्य पढ़े|

Pradosh Vrat Katha PDF: Overview

PDF Nameप्रदोष व्रत कथा PDF
LanguageHindi
No. of Pages24
PDF Size13.4 MB
CategoryReligious
QualityExcellent

Download प्रदोष व्रत कथा PDF

नीचे दिए गए डाउनलोड बटन का अनुसरण करके आप इस व्रत कथा को पीडीऍफ़ के रूप में डाउनलोड करके पढ़ सकते है|

आज के इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपके साथ Pradosh Vrat Katha PDF शेयर किया, उम्मीद है कई इस पोस्ट में दी गयी जानकारी आपको अवश्य पसंद आई होगी| अगर पोस्ट अच्छा लगा तो अपने दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करे|

अन्य महत्वपूर्ण पोस्ट-

Suraj Sharma

Suraj Sharma इस ब्लॉग का Founder और Technical लेखक जो टेक से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण बातों को आसान भाषा में भारत के सभी नागरिक तक पहुचाना चाहता है|

Leave a Reply