[PDF] शनि चालीसा PDF | Shani Chalisa in Hindi PDF

Shani Chalisa in Hindi PDF, यहाँ से आप बिलकुल free में श्री शनि चालीसा pdf को डाउनलोड कर सकते है, और अपने फोन से देख्नकर ही शनि चालीसा का पाठ करके शनि देर से वरदान प्राप्त कर सकते है|

शनिदेव चालीसा का पाठ शनिवार को करना हिन्दू धर्म के अनुशार बहुत ही शुभ मन जाता है| हिन्दू धर्म में ऐसा बोला जाता है की अगर आप शनिवार को सुबह नहा धोकर शनिदेव के सामने सच्चे मन से शनि चालीसा का पाठ करते है तो शनिदेव आपसे प्रसन्न होते है और आपकी ग्रह स्थिति सही बनी रहती है, जीवन से परेशानियों का नास होता है|

इसीलिए आपको प्रत्येक शनिवार शनि का पाठ जरुर करना चाहिए| क्युकि अगर आपके जीवन में ग्रह की स्थिति ठीक होती है तो आपके जीवन से परेशानी अपने आप दूर हो जाता है|

Download Shani Chalisa in Hindi PDF

आज के इस पोस्ट में हम, सभी शनि देव के भक्तो के लिए श्री शनि चालीसा pdf लेकर आये है जिसे आप निचे दिए गए डाउनलोड लिंक पर क्लिक करके आसानी से डाउनलोड कर सकते है और शनिवार के दिन इसका पाठ कर सहदेव से आशीष प्राप्त कर सकते है|

नामShani Chalisa in Hindi PDF
साइज214 KB
पेज3
डाउनलोड लिंकDownload Now

शनि देव के चालीसा का pdf आपके साथ साझा करना हमलोग के लिए बहुत ही सोभाग्य की बात है क्युकि हिन्दू धर्म के अनुसार सहदेव को दंडाधिकारी की उपाधि प्राप्त है| जब भी कोई व्यक्ति पाप या अधर्म के राह पर चलते है तो शनिदेव ही उसे दंड देकर धर्म के राह पर चलने में मजबूर कर देते है|

शनिदेव के बारे में बहुत सारी गलत धर्नाये हमारे बीच है जैसे शनिदेव बिना किसी कारण के ही दंड देते है जो कद्दपी गलत है शनि देव हमेशा व्यक्ति के बुरे कर्मो की सजा ही उन्हें देता है, क्युकि अगर पृथ्वी में बड़े कर्म करने वालो की संक्या बढ़ जाएगी तो शर्म के राह पर चलने वाले लगो को हमेशा दुःख ही झेलना पड़ेगा|

शनि चालीसा का पाठ कैसे करना चाहिए?

अगर आप भी शनि देव में छाया में रहना चाहते है तो आपको भी शनि देव चालीसा का पाठ कम से कम सप्ताह में एक दिन शनिवार के दिन करना ही चाहिए, क्युकि हिन्दू साहित्यों के शनिवार का दिन शनिदेव के लिए मनोनीत किया है| कहा जाता है कि किसी और अन्य दिन के बजे अगर आप शनिवार को शनि चालीसा का पाठ करते है तो आपको आपके पाठ का फल कई गुणा ज्यादा प्राप्त होता है|

भगवन शानिदर का पूजा के लिए आपको सोचने की कोई जरूरत नहीं क्युकि आपको केवल सच्चे मन से एकांत में बैठकर शनिदेव चालीसा का पाठ करना है और शनिदेव की मन ही मन पूजा करना है| इतना करने मात्र से ही शनिदेव अपने भक्तों से प्रसन्न हो जाते है और उसकी सारी मनोकामना पूरी करते है|

Suraj Sharma

Suraj Sharma इस ब्लॉग का Founder और Technical लेखक जो टेक से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण बातों को आसान भाषा में भारत के सभी नागरिक तक पहुचाना चाहता है|

Leave a Reply