तिसुआ सोमवार पूजा विधि | Tisua Vrat Puja Vidhi

Tisua Vrat Puja Vidhi: इस पोस्ट द्वारा हम आप सभी को तिसुआ सोमवार पूजा विधि के बारे में बताएँगे| यदि आप इस पूजा की विधि को अच्छे से जानना कहते है तो पोस्ट को अंत तक जरुर पढ़े|

हिन्दू धर्म में तिसुआ सोमवार व्रत कथा का अलग ही महत्व माना जाता है| इस दिन सभी महिलाये भगवान जगन्नाथ की आरती पर पूजा करते है| तिसुआ सोमवार का व्रत चैत्र महीने में किया जाता है| कहा जाता है कि जो भी जगन्नाथ धाम की यात्रा से आते है,उसे यह पूजा करनी चाहिए| ऐसा करने से ही आपको शुभफल की प्राप्ति होती है और भगवान जगन्नाथ की आशीर्वाद प्राप्त होती है|

तिसुआ सोमवार पूजा विधि (Tisua Vrat Puja Vidhi)

  • शास्त्र के अनुशार चैतमास के चारों सोमवारों को तिसुआ सोमवार कहा जाता हैं|
  • तिसुआ सोमवार में ही श्री जगदीश जी का पाठ और पूजा की जाती हैं|
  • तिसुआ सोमवार का पूजा और पाठ उन्हीं के यहाँ की जाती है, जो जगन्नाथ धाम से श्री जगदीश जी का दर्शन कर आये है|
  • यह पूजा दोहप्रहर के समय की जाती है|
  • पूजा में घर का प्रमुख व्यक्ति या जो श्री जगदीश का दर्शन कर आये है, उसी को व्रत रखनी हैं|
  • पूजा के समय जगदीश भगवान को चंदन, धूप और नेवेत आदि को चढ़ाए|
  • इस पूजा में पाठ और वेदों का विधि पूर्वक पूजन किया जाता हैं|
  • श्री जगदीश भगवान को पुष्प का माला, आम की बौर, टेसू के फल चढ़ाना आश्यक मन जाता है|
  • आप जगदीश भगवान को कच्चा या पक्का पकवान का भोग लगा सकते हैं|
  • भोग के बाद तिसुआ सोमवार की व्रत कथा कही जाती है|
  • अंत में पूजा समाप्ति के बाद प्रसाद को बाँट दे|

भगवान जगन्नाथ का यह पूजा अत्यंत ही शुभ माना जाता है| यह पूजा करने से सभी को लाभ मिलता है, इसलिए सभी को यह पूजा करनी चाहिए| यदि आप भी श्री जगन्नथ भगवान की पूजा करते है तो इस पोस्ट को जरुर शेयर करें|

अन्य पोस्ट:-